इन्टरनेट स्पीड क्या ? क्यों ? कैसे ?

Categories: , ,

भारतीय जनमानस को भगवन ने कुड़ने और कोसने का अजब तोहफा दिया है । यदि कोई चोर नही है तो भी उसको इतना चोर कहेंगे की वो डर के मारे ख़ुद ही सफाई देने लगेगा ,और कोई हमें गलती करता हुआ तो दिख जाए उसकी जान ही ले के दम लेते हैं ।
इन दिनों हमारे ब्लागर भी इसी धुन मैं internet service provider अंतरजाल सेवा प्रदाता कम्पनियों के पीछे पड़े हैं की भइया स्पीड ही नही मिलती और चोरी का इल्जाम भी लगा रहे हैं तो कितना, 90% ये तो सही में कुछ ज्यादा ही हो गया है ,नही क्या ?

तो आइये आपको इन्टरनेट स्पीड के बारे में कुछ समझाते हैं

इन्टरनेट पर वेबसाइट खोलते समय एक प्रोसेस के तहत उस का कंटेंट विभिन्न स्वरूपों में जैसे फोटो है तो .png या .jpg या कुछ और जावा स्क्रिप्ट है तो .js ,html पेज है तो .html में और api की css शीत .css में कंप्युटर की अस्थ्याई (temprory) मेमोरी में डाउनलोड हो कर सेव हो जाते हैं । जिसका पता ei8 में कुछ ऐसा दिखता है C:\Documents and Settings\MICROSOFT\Local Settings\Temporary Internet Files .
इस डाटा के ट्रांसफर को टेलीकम्युनिकेशन और कंप्यूटिंग की भाषा में bitrate ( बिटरेट ) कहते हैं । इसे बिट्स प्रति सेकंड (bits per second ) के माप से मापते हैं ,bps और इसी नाचीज़ को हम स्पीड के नाम से जानते हैं ,ज़ाहिर है जितना ज्यादा बिट रेट होगा उतनी ही ज्यादा इन्टरनेट स्पीड और जब कोई डाटा डाउनलोड होता है तो उसे बायट्स प्रति सेकंड में मापते है ,Bps . अब शायद इससे ज्यादा टेक्नीकल ज्ञान में नही दे सकता नही तो आपको मेरे तकनीकी ज्ञान पर शक हो सकता है ।
अब दिक्कत क्या है ?
दिक्कत ये है की कम्पनियाँ बताती हैं की हम 256 की स्पीड देते हैं और जब भी हम इन्टरनेट से कुछ डाउनलोड करते हैं जैसे गाना या सॉफ्टवेर तो हमारा आंकडा 30-40 के बीच में ही अटका रहता है ,आगे ही नही बढता ।
अरे भइया जरा ध्यान से देखिये आप के इन्टरनेट सेवा प्रदाता ने आपको स्पीड दी है 256Kbps और आप जब डाउनलोड कर रहे होते हैं तो स्पीड होती है KBPS में ,यहाँ दिक्कत है कन्वर्जन की हम Kbps और KBps में फर्क महसूस ही नही करते हैं
.....(शुरू से शुरुआत )
b=bits
Kb=kilobits
Mb=megabits
Gb=gigabits
Tb=terabits

B=Bytes
KB=Kilobytes
MB=Megabytes
GB=Gigabytes
TB=Terabytes

देखा आपने यहाँ कमाल सिर्फ़ अपर केस और लोवर केस का है,और आप कान्फ्युस हो गए ,अब कोन्वेर्जन देखिए

  • 8b = 1B (8 बीट्स = 1 बायट्स )
  • 256b = 32B (256 बीट्स = 32 बायट्स )
बाकी का बिट/बायट्स कैलकुलेशन के लिए यहाँ क्लिक करें
निष्कर्ष

तो जब आपका इन्टरनेट 256Kbps की स्पीड पर चल रहा होता है तो डाउनलोड स्पीड 32KBps होना चाहिए
या
अगर आपको डाउनलोड करने मैं 25KBps की स्पीड मिल रही है तो आपकी इन्टरनेट स्पीड है 25*8=200Kbps

अब शायद आपको समझ आ जाए कि इन्टरनेट कम्पनियां इतनी भी बेईमान नही है ,स्पीड थोडी बहुत तो कम आती है पर इतनी भी नही ।
एक सीधा सूत्र याद करलेंगे तो भी काम चल जाएगा (डाउनलोड स्पीड *(गुणित) 8 = इन्टरनेट स्पीड)

उम्मीद है कि आपकी समस्या का समाधान हुआ होगा .धन्यवाद
यदि पढ़ते पढ़ते यहाँ तक ही गए हैं तो कमेन्ट देने में कैसा शर्माना ,अरे भाई कुछ नही तो अपनी इन्टरनेट स्पीड ही लिख दें


ब्लॉग को ईमेल से पसंद करें

Spread The Love, Share Our Article

Related Posts

8 Response to इन्टरनेट स्पीड क्या ? क्यों ? कैसे ?

5:50 PM, March 22, 2009

आपने बेसिक बात बताई ये तो मुझे पता ही नहीं था जानकारी के लिए बहुत धन्यवाद मैं हमेशा बायट्स ही इसे पड़ता रहा... [Reply]

11:20 PM, March 22, 2009

हम टिपिया दिये लेकिन अपनी स्पीड न बतायेंगे! [Reply]

11:30 PM, March 22, 2009

आपने तो हर शब्‍द में अमृत समेट लिया
अब तो आपकी स्‍पीड काफी बढ़ गई होगी
अनूप जी आप चाहें न बतलायें पर हम
आपकी दी हुई टिप्‍पणियों को गिन लेंगे
और सारी स्‍पीड जरूर पता लगाएंगे। [Reply]

12:12 AM, March 23, 2009

आपने अच्‍छा समझाया ... हमलोग भ्रम में थे। [Reply]

12:35 AM, March 23, 2009

achchhi jankari di.. thnx... [Reply]

1:34 AM, March 23, 2009

रोचक जानकारी देने के लिए धन्यवाद वीनस केसरी [Reply]

9:49 AM, March 23, 2009

बहुतों की समस्या (जो थी ही नहीं ) सोल्व हो जायेगी [Reply]

12:43 PM, March 23, 2009

hi, nice to go through your blog...by the way which typing tool are you using..?

Heard that Google is providing 5 Indian language and not providing rich text.

recently, i was searching for user friendly Indian language typing tool and found... "quillpad" . do u use the same....?

And here, 'quillpad' provides you 9 Indian language and gives you the option of rich text too..
now a days typing in an Indian Language is not a big task.

expressing our views in our own mother tongue is a great feeling. it is our duty too. so save, protect, popularize and communicate in our own mother tongue.

try this, www.quillpad.in

Jai...Ho.... [Reply]

Post a Comment

आप का एक एक शब्द हमारे लिए अमृत के समान है , हमारा प्रयास कैसा लगा ज़रूर बताएं