चुनाव तक हमऊ दलित बना दई

Categories: , ,

पिछले कई दिनों से कांग्रेस महासचिव राहुल गाँधी अपने दलित प्रेम को लेकर चर्चा में रहे हैं, उनके इस अंदाज़ से हर कोई प्रभावित हो रहा है। वे दलितों के घर जाकर खाना खाते हैं और बाकायदा रात भी गुजारते हैं। उनके साथ पिछले दिनों भारत आए ब्रिटेन के विदेश मंत्री डेविड मिलिबंद भी एक दलित के घर यात्रा पर गाँव पहुंचे और वहां खाना खाया। दलित के घर का खाना विशुद्ध उसी परिवेश का था या नहीं अभी इस तथ्य का खुलासा नही हुआ है। बहरहाल हमारे मध्य प्रदेश में भी उन्ही के साथी ज्योतिरादित्य सिंधिया 'महाराज' भी पिछले दिनों गुना के एक गाँव में दलित के यहाँ पहुँच गए, फिर क्या था अपने महाराज को देख प्रजा हर्षित हुई, मन प्रफुल्लित हुआ। सिंधिया ने उनके घर भोजन ग्रहण किया। अब इस घटना के बाद हमारे गाँव के किसान राम जीवन जो हालत से दलित है और जाती से सवर्ण। कहने लगा कि कोई सरकारी योजना नही है जो हमें चुनाव तक दलित बना सके। कम से कम गाँधी और सिंधिया नही तो हमारे विधायक भइया जी या सरपंच साहब हमारे घर पधार जायें और थोडी मदद कर दें, तवे पर रोटी डालने में। क्योंकि हमारे पास तो अपने दो बच्चों को भर पेट देने के लिए भोजन ही नही है हम दूसरो को क्या खिलाएंगे इसलिए हम कह रहे हैं चुनाव तक हम भी दलित हैं, हमारी भी मदद करो।

Spread The Love, Share Our Article

Related Posts

4 Response to चुनाव तक हमऊ दलित बना दई

9:04 PM, March 13, 2009

आख़िर में राजमाता फिर पछताएंगी कि प्रजा का ये हर्ष वोट में तब्दील क्यों नहीं हुआ. और परजवा जो है न ऊ अब बड़ी सयानी हो गई है जी. [Reply]

4:52 PM, March 14, 2009

हालत से दलित है और जाती से सवर्ण उनकी सुध कौन लेगा .
सही कह रहे है राम जीवन "चुनाव तक हम भी दलित हैं, हमारी भी मदद करो". इसी बहाने कुछ भला हो जाये . [Reply]

5:03 PM, March 14, 2009

कोई सरकारी योजना नही है जो हमें चुनाव तक दलित बना सके।.........
वाह, हमारी व्यवस्था का सत्य उजागर होता है इन पंक्तियों में
बहुत बढ़िया [Reply]

7:22 PM, March 14, 2009

बहुत बढिया लिखा आपने.

रामराम. [Reply]

Post a Comment

आप का एक एक शब्द हमारे लिए अमृत के समान है , हमारा प्रयास कैसा लगा ज़रूर बताएं