मीडिया की भूमिका कर्तव्य और भटकाव

Categories: , , ,


आईआरएस के 2007 के आंकड़े बताते हैं कि मीडिया केवल अपना बाजार देखता है। आखिर कौन सी वजह है कि आजादी के 60 वर्ष बाद तक महिला जनसंख्या तक मीडिया की पहुंच काफी कम रही है। इसके कारण चाहे जो भी हो लेकिन इसे शुभ संकेत नहीं माना जा सकता क्योंकि लोकतंत्र में लिंग असमानता का कोई प्रश्न ही नहीं खड़ा होता। फिर मीडिया की यह प्रवृत्ति संविधान के खिलाफ भी है।
आखिर क्या हो भारतीय लोकतंत्र में मीडिया की भूमिका
  • लोकतंत्र अभिव्यक्ति का अधिकार तो देता है लेकिन इस व्यवस्था में अधिकार के साथ-साथ कर्तव्य भी चलतेरहते हैं। लोकतंत्र अधिकार और कर्तव्य में असंतुलन की इजाजत नहीं देता। फिर मीडिया पर तो लोकतंत्र कीपहरेदारी का भी जिम्मा है, जिससे उसे इस गंभीर दायित्व से मुहं नहीं मोड़ना होगा।
  • मीडिया को मार्शल मैक्लूहान की बात "मीडियम इज मैसेज" हमेशा याद रखनी चाहिए क्योंकि इससे लोकतंत्र मेंसार्थक सूचना व संचार क्रांति आ सकती है।
  • मीडिया को खुद जज बनने की प्रवृत्ति से बचना होगा, क्योंकि लोकतंत्र में न्याय के लिए न्यायपालिका का प्रावधानहै न कि खबरपालिका का। आरूषि हत्याकांड से सबक लेने की भी जरूरत है।
  • लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति आस्था, शिक्षा, चिकित्सा, तकनीकी विकास और सामाजिक-सांस्कृतिक चेतना जागृतकरने में मीडिया को आगे आना होगा।
  • दलित, महिला एवं ग्रामीण विकास से मुंह फेरने की प्रवुत्ति से मीडिया को बचने की आवश्यकता है
  • राष्ट्र की एकता व अखंडता तथा मानवाधिकार के मुद्दों को स्थान देना होगा।
  • भारतीय जीवन मूल्य व लोक संस्कृति को प्रवाहमान बनाए रखने की भूमिका का भी मीडिया को निर्वहन करनाहोगा।
  • पर्यावरणीय चेतना जागृत करने और बहुसंख्यक समाज के सरोकारों को तवज्जो देना होगा मीडिया को।
  • समाज के यथार्थ को यथावत प्रस्तुत करना, जो कि मीडिया का मूल धर्म है।
  • विकास के मुद्दों को उभारना और सकारात्मक ख़बरें छापना।
  • आम आदमी की आवाज बनना और सबसे बड़ी भूमिका यह निभानी होगी जिससे भारत का लोकतंत्र मजबूत हो, सबको भागीदारी मिले और मीडिया के धर्म पर कभी सवाल न उठे।

भारतीय लोकतांत्रिक परिप्रेक्ष्य में संचार माध्यमों की भूमिका शायद कह देने से तय नहीं होने वाली। हमारे देश का मीडिया आज भी जो काम कर रहा है वह अन्य क्षेत्रों से बेहतर है। लेकिन इससे संतोष नहीं किया जा सकता क्योंकि भारतीय संदर्भ में लोकतंत्र के इस चौथे खंभे ने अपनी भूमिका से देश की आजादी में योगदान से लेकर तमाम ऐसे कार्य किए हैं जिस पर खबरपालिका गर्व कर सकती है। लेकिन मीडिया का रूझान हाल के वषोZं में जिस तरह से बदला है उस पर उसे स्वयं विचार करना होगा।
मीडिया को हम केवल लताड़ दें, इससे बात नहीं बनने वाली। हालांकि मीडिया को अब जनसामान्य की उन चिंताओं के प्रति संवेदनशील होने की जरूरत है जो मीडिया की प्राथमिकताओं के खिलाफ विकसित हो रही है। मीडिया को अपनी कार्यप्रणाली पर सोचने की जरूरत है कि कैसे वह अब समाज की आवाज बन सके।
हालांकि बिना बाजार के मीडिया चल भी नहीं सकता, लेकिन उसे ध्यान रखना होगा कि वह लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करे। लोकहित के लक्ष्य को प्रधानता देते हुए समाज के संपूर्ण तबके पर उसे नजर रखनी होगी। क्योंकि जिसे देश की मीडिया राष्ट्रीय संस्था की तरह पनपी और काम करती रही हो वहां वह सिर्फ बाजार की एजेंट नहीं हो सकती। अर्थात मीडिया को स्वमेव अपनी भूमिका पर फिर सोचना होगा।
मीडिया को अब अपने सरोकारों के दायरों को बढ़ाने की जरूरत है। 25 अगस्त 1936 में द बाम्बे क्रॉनिकल में नेहरूके लेख पर मीडिया को पुनर्विचार करने की जरूरत है जिसमे उनने कहा था कि "मैं इस बात का बुरा नहीं मानता कि अखबार अपनी नीति के मुताबिक किसी खास तरह की खबरों को तरजीह दें, लेकिन मैं खबरों को दबाये जाने के खिलाफ हूँ क्योंकि इससे दुनिया की घटनाओं के बारे में सही राय बनाने का एकमात्र साधन जनता से छिन जाता है। " आज जरूरत नेहरू के आशय को समझने की जरूरत है।
कुल मिलाकर वर्तमान में मीडिया की भूमिका पर चिंता जायज है लेकिन हम सभी को मिलकर इसका रास्ता ढूंढना होगा। वरन मीडिया को खुद आगे बढ़कर अपनी भूमिका निर्धारित करनी होगी नहीं तो मीडिया पर नियंत्रण के समर्थन में जो मुहिम चलाई जा रही है, उस खतरनाक संकेत को भांप लेना चाहिए।
हमें स्वीकार करना चाहिए कि भारत जैसे विकासशील देश में मीडिया का दायित्व लोगों को ख़बर पहुंचाना ही नहीं होता है बल्कि उन्हें विश्लेषणात्मक व विवेचनात्मक चेतना से समृद्ध करना भी होता है।
इससे गुरेज नहीं किया जा सकता कि मीडिया पर पूंजी का नियंत्रण बढ़ा है और गरीब की आवाज को बुलंद करने वाले लोकतंत्र का दायरा तेजी से सिमटता चला गया है लेकिन इस दायरा को बढ़ाने का साधन मीडिया ही हो सकता है। खैर हम सकारात्मक दृष्टिकोण से भविष्य में मीडिया की सकारात्मक भूमिका की आशा कर ही सकते हैं क्योंकि बहुत ज्यादा दिन तक सेक्स, फैशन, क्राइम, क्रिकेट नहीं चल सकता। मीडिया का उद्देश्य वैश्विक बाजार खड़े करना है अथवा फिर जनकल्याण के लिए अपने कर्तव्यों का निर्वहन करना ।
सवाल गंभीर जरूर है लेकिन ऐसे प्रश्नों के उत्तर खोजे जाएंगे, ऐसा विश्वास है। इसी विश्वास के साथ कि मीडिया की भूमिका के साथ-साथ लोकतंत्र के संपूर्ण तत्वों को अपनी भूमिका पर सोचना होगा। अंत में दुष्यंत कुमार की पंक्तियां याद आती हैं-
मत कहो, आकाश में कुहरा घना है, यह किसी की व्यक्तिगत आलोचना है।
पिछली कड़ी
  1. लोकतंत्र में संचार माध्यमों की भूमिका- शोध पत्र
  2. संचार माध्यम : एक संक्षिप्त परिचय
  3. लोकतंत्र में संचार माध्यमों की भूमिका
  4. समकालीन समाज में मीडिया की भूमिका

सम्पूर्ण आलेख प्रस्तुति रवि शंकर सिंह माखनलाल विश्वविध्यालय भोपाल
अपनी अपनी डगर को अपना होम पेज बनाने के लिए यहाँ क्लिक करें
नए लेख ईमेल से पाएं
चिटठाजगत पर पसंद करें
टेक्नोराती पर पसंद करें
इस के मित्र ब्लॉग बनें

Spread The Love, Share Our Article

Related Posts

1 Response to मीडिया की भूमिका कर्तव्य और भटकाव

2:45 PM, February 01, 2012

hame aapka lekh bahut pasand aaya aapki vichardhara bahut gahan hai [Reply]

Post a Comment

आप का एक एक शब्द हमारे लिए अमृत के समान है , हमारा प्रयास कैसा लगा ज़रूर बताएं