समकालीन समाज में मीडिया की भूमिका

Categories: , , ,

समाजिक चेतना जागृत करने का सबसे महत्वपूर्ण साधन है मीडिया, जो अपनी प्रभावी प्रस्तुतियों के माध्यम से समाज को सिर्फ दिशा देता है बल्कि उसके दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए उसे संचालित भी करता है। समकालीन समाज में मीडिया समाज की अग्रगामिता को आगे बढ़ाने का प्रयास भी कर रहा है। लेकिन सवाल यह है वैश्वीकरण तकनीकी के इस युग में समाज में हो रहे परिवर्तनों को भांपने की उसकी क्षमता कुंद होती जा रही है। आखिर क्यों ? यह सवाल बाजारवादी प्रवृत्ति के मीडिया के लिए कोई मायने भले ही रखता हो लेकिन इससे मीडिया की साख खतरे में पड़नी शुरू हो चुकी है। आज मीडिया उन मूल्यों आदर्शों को तिलांजली देने पर तुला है जिसे आजादी के पहले और उसके बाद के वर्षों में पत्रकारिता की बुनियाद समझा जाता था।
समकालीन समाज में मीडिया क्रिकेट, क्राइम, फैशन शो, बॉलीवुड और रियलिटी शो के भंवर में फंसा हुआ है। कुछ स्टिंग आपरेशन से छुपी हुई सच्चाईयां जरूर निकाल रहा है लेकिन उससे ज्यादा वह स्टिंग के नाम पर मनमानी कर रहा है। उपभोक्तावादी संस्कृति के संरक्षण में पल रहा मीडिया केवल उन्हीं खबरों और मुद्दों पर खुद को केंद्रित कर रहा है जिससे उसे अपने बाजार चलाते रहने की प्रक्रिया बाधित हो।

श्रमिक वंचित तबके के विकास में मीडिया की भूमिका
अगर सरकारी तंत्र के मीडिया को छोड़ दें तो हम पाते हैं कि आज का मीडिया गरीब श्रमिकों की जमीनी परेशानियों पर चंद शब्द लिखने बोलने में भी परहेज करता है। क्योंकि वह जानता है कि इस तरह की ख़बरों का कोई लेनदार नहीं है। पर दर्शक, श्रोता, पाठक और लिए ही वे विज्ञापनदाता जिनके भरोसे मीडिया का बाजार टिका है। इसके वंचित तबकों तक नहीं पहुंचने के कारण भी साफ है कि इनमें सामूहिक शक्ति राजनीतिक शक्ति का अभाव होता है।

हिंसाग्रस्त इलाकों में मीडिया की भूमिका
26 नवंबर 2008 की मुंबई की घटना में आतंकवादी घटना के कवरेज को लेकर पूरी दुनिया में भारत का मीडिया कटघरे में खड़ा हो गया था। खासतौर पर टीवी चैनलों की भूमिका की सर्वत्र निंदा की गई। इस एक घटना के 60 घंटे के लाइव कवरेज ने सेना तथा पुलिस की कठिनाइयां बहुत हद तक बढ़ा दी थी। इससे आम जनता में भी दहशत का माहौल कायम हो गया था।
इसी घटना के प्रकरण में टीवी चैनलों की भूमिका से पता लगने लगा कि अग मीडिया से सरोकार के शब्द लुप्त होते जा रहे हैं। इस घटना में टीवी ने ताज को जितना कवरेज दिया उतना शिवाजी टर्मिनस को नहीं दिया। इसका कारण साफ था कि ताज में बड़े लोग मारे गए थे जो मीडिया के बाजार में उपभोक्ता थे, जबकि शिवाजी टर्मिनस के लोग उसके दायरे में नहीं आते थे।
हालांकि उग्रवाद तथा आतंकवाद प्रभावित इलाके से मीडिया ख़बर जरूर निकाल रहा है लेकिन अपने हिसाब से।
लेकिन सबसे सकारात्मक पक्ष यह है कि मीडिया ने हिंसाग्रस्त इलाकों में आतंकियों की धमकी के बावजूद पत्रकारीय धर्म को निभाया है। उदाहरण के लिए वर्ष 2005 तक कश्मीर में 28 पत्रकारों को शहादत देनी पड़ी है। वर्ष 2006 में असम में उल्फा की धमकी के बाद भी मीडिया ने अपना धर्म निभाया था लेकिन इसमें उनको परेशानियां भी झेलनी पड़ी थीं।
इस विषय पर और पढने के लिए यहाँ क्लिक करें



नए लेख ईमेल से पाएं
चिटठाजगत पर पसंद करें
टेक्नोराती पर पसंद करें
इस के मित्र ब्लॉग बनें

Spread The Love, Share Our Article

Related Posts

No Response to "समकालीन समाज में मीडिया की भूमिका"

Post a Comment

आप का एक एक शब्द हमारे लिए अमृत के समान है , हमारा प्रयास कैसा लगा ज़रूर बताएं