इन पर भी कसो नकेल, ब्राउन से सीखो

Categories: , ,

क्या आप सांसद हैं ? क्या आपने कभी पैसा खाया है, किसी को मरवाया है, किसी घोटाले में आपका नाम है, या अपने किसी भतीजे की नौकरी लगवाई है तो फ़िर भी परेशान होने की कोई ज़रूरत नही है , आप भारत में है और यहाँ सांसदों के लिए कोई आचार संहिता नही है पर भूल कर भी ब्रिटेन मत जाइएगा क्योंकि वहां आचार संहिता बने जा रही है सांसदों के लिए आचार संहिता सुनने में जरूर कुछ अजीब लग रहा होगा, पर कुछ ऐसा हुआ है ब्रिटेन में। सांसदो के खर्च घोटाले के शर्मसार खुलासों के बीच ब्रिटेन सरकार की योजना निर्माताओं के लिए बाध्यकारी कानून लागू करने की योजना बनाई है।

प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन ने कहा कि उनकी योजना सांसदों के लिए बाध्यकारी कानून लागू करने की है, जो अन्य सार्वजनिक संस्थानों के लिए चेतावानी है कि कठोर छानबीन का सामना करना होगा।

संविधान सुधार विधेयक की योजना तय करते हुए उन्होंने कहा कि इसमें ऐसा प्रावधान शामिल होगा जो जिम्मेदारियां निर्धारित करेगा। सांसदों के लिए एक आचार संहिता होगी। ब्राउन के हवाले से मीडिया में कहा गया है कि उसके बाद हम एक स्वतंत्र बाहरी संस्था बनाएंगे। जो अब से आगे इन चीजों का प्रबंधन करेगी।

लेकिन ब्राउन की परेशानी इस से सुलझने से ज्यादा बढ़ते जा रही है , एक-एक करके उनके तीन मंत्री इस्तीफा दे चुके हैं
वे एक दमदार नेता हैं और ऐसी छोटी बातों से वे डिगने वाले नही हैं , उनकी पार्टी का विशवास उन में है और वे पूरे विश्व के लिए उदहारण प्रस्तुत करना चाहते हैंउन की जय हो

नए लेख ईमेल से पाएं
चिटठाजगत पर पसंद करें
टेक्नोराती पर पसंद करें
इस के मित्र ब्लॉग बनें

Spread The Love, Share Our Article

Related Posts

5 Response to इन पर भी कसो नकेल, ब्राउन से सीखो

2:58 PM, June 05, 2009

सटीक बात कही है आपने। इन पर भी नकेल कसी जानी चाहिए।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI } [Reply]

4:17 PM, June 05, 2009

क्या हमारे देश के नेता इन से सीख लेगें?शायद कभी नही.. [Reply]

5:20 PM, June 05, 2009

हमारे देश के मोटी चमड़ी वाले नेता ऐसा कुछ यहाँ होने नहीं देंगे... [Reply]

8:42 PM, June 06, 2009

atyant saarthak aalekh
badhai ho
jai ho ! [Reply]

8:32 PM, June 07, 2009

अपने पर किसी भी प्रकार का अंकुश लगाने की हिम्मत न तो हमारे प्रधान मंत्री कर सकते है एवं न माननीय सांसद गण. हाँ, अपने वेतन, भत्ते, सुविधा बडाने के नाम पर सभी दलों के सांसद गणों में अभूतपूर्व एका समय समय पर जरूर देखने को मिला है. [Reply]

Post a Comment

आप का एक एक शब्द हमारे लिए अमृत के समान है , हमारा प्रयास कैसा लगा ज़रूर बताएं